शनिवार, मई 15, 2010

बालकाण्ड 14

tulasi das .. Ram Charit Manas..ramayan
story of the lord rama..king of ayodhya
by...rajeev kumar kulshrestha
दंड प्रनाम सबहि नृप कीन्हे। पूजि सप्रेम बरासन दीन्हे॥
चारि लच्छ बर धेनु मगाई। कामसुरभि सम सील सुहाई
सब बिधि सकल अलंकृत कीन्हीं। मुदित महिप महिदेवन्ह दीन्हीं॥
करत बिनय बहु बिधि नरनाहू। लहेउ आजु जग जीवन लाहू
पाइ असीस महीसु अनंदा। लिए बोलि पुनि जाचक बृंदा॥
कनक बसन मनि हय गय स्यंदन। दिए बूझि रुचि रबिकुलनंदन
चले पढ़त गावत गुन गाथा। जय जय जय दिनकर कुल नाथा॥
एहि बिधि राम बिआह उछाहू। सकइ न बरनि सहस मुख जाहू
बार बार कौसिक चरन सीसु नाइ कह राउ।
यह सबु सुखु मुनिराज तव कृपा कटाच्छ पसाउ
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
जनक सनेहु सीलु करतूती। नृपु सब भांति सराह बिभूती॥
दिन उठि बिदा अवधपति मागा। राखहिं जनकु सहित अनुरागा
नित नूतन आदरु अधिकाई। दिन प्रति सहस भांति पहुनाई॥
नित नव नगर अनंद उछाहू। दसरथ गवनु सोहाइ न काहू
बहुत दिवस बीते एहि भांती। जनु सनेह रजु बंधे बराती॥
कौसिक सतानंद तब जाई। कहा बिदेह नृपहि समुझाई
अब दसरथ कह आयसु देहू। जद्यपि छाड़ि न सकहु सनेहू॥
भलेहि नाथ कहि सचिव बोलाए। कहि जय जीव सीस तिन्ह नाए
अवधनाथु चाहत चलन भीतर करहु जनाउ।
भए प्रेमबस सचिव सुनि बिप्र सभासद राउ
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
पुरबासी सुनि चलिहि बराता। बूझत बिकल परस्पर बाता॥
सत्य गवनु सुनि सब बिलखाने। मनहु सांझ सरसिज सकुचाने
जहँ जहँ आवत बसे बराती। तहँ तहँ सिद्ध चला बहु भाँती॥
बिबिध भाँति मेवा पकवाना। भोजन साजु न जाइ बखाना
भरि भरि बसह अपार कहारा। पठई जनक अनेक सुसारा॥
तुरग लाख रथ सहस पचीसा। सकल संवारे नख अरु सीसा
मत्त सहस दस सिंधुर साजे। जिन्हहि देखि दिसिकुंजर लाजे॥
कनक बसन मनि भरि भरि जाना। महिषी धेनु बस्तु बिधि नाना
दाइज अमित न सकिअ कहि दीन्ह बिदेह बहोरि।
जो अवलोकत लोकपति लोक संपदा थोरि॥
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
सबु समाजु एहि भाँति बनाई। जनक अवधपुर दीन्ह पठाई॥
चलिहि बरात सुनत सब रानीं। बिकल मीनगन जनु लघु पानीं
पुनि पुनि सीय गोद करि लेहीं। देइ असीस सिखावनु देहीं॥
होएहु संतत पियहि पिआरी। चिरु अहिबात असीस हमारी
सासु ससुर गुर सेवा करहू। पति रुख लखि आयसु अनुसरहू॥
अति सनेह बस सखी सयानी। नारि धरम सिखवहिं मृदु बानी
सादर सकल कुअँरि समुझाई। रानिन्ह बार बार उर लाई॥
बहुरि बहुरि भेटहिं महतारीं। कहहिं बिरंचि रचीं कत नारीं
तेहि अवसर भाइन्ह सहित रामु भानु कुल केतु।
चले जनक मंदिर मुदित बिदा करावन हेतु
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
चारिअ भाइ सुभाय सुहाए। नगर नारि नर देखन धाए॥
कोउ कह चलन चहत हहिं आजू। कीन्ह बिदेह बिदा कर साजू
लेहु नयन भरि रूप निहारी। प्रिय पाहुने भूप सुत चारी॥
को जानै केहि सुकृत सयानी। नयन अतिथि कीन्हे बिधि आनी
मरनसीलु जिमि पाव पिऊषा। सुरतरु लहै जनम कर भूखा॥
पाव नारकी हरिपदु जैसे। इन्ह कर दरसनु हम कहँ तैसे
निरखि राम सोभा उर धरहू। निज मन फनि मूरति मनि करहू॥
एहि बिधि सबहि नयन फलु देता। गए कुअँर सब राज निकेता
रूप सिंधु सब बंधु लखि हरषि उठा रनिवासु।
करहि निछावरि आरती महा मुदित मन सासु
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
देखि राम छबि अति अनुरागीं। प्रेमबिबस पुनि पुनि पद लागीं॥
रही न लाज प्रीति उर छाई। सहज सनेहु बरनि किमि जाई
भाइन्ह सहित उबटि अन्हवाए। छरस असन अति हेतु जेवाए॥
बोले रामु सुअवसरु जानी। सील सनेह सकुचमय बानी
राउ अवधपुर चहत सिधाए। बिदा होन हम इहाँ पठाए॥
मातु मुदित मन आयसु देहू। बालक जानि करब नित नेहू
सुनत बचन बिलखेउ रनिवासू। बोलि न सकहिं प्रेमबस सासू॥
हृदय लगाइ कुअँरि सब लीन्ही। पतिन्ह सौंपि बिनती अति कीन्ही
करि बिनय सिय रामहि समरपी जोरि कर पुनि पुनि कहै।
बलि जाउ तात सुजान तुम्ह कहु बिदित गति सब की अहै॥
परिवार पुरजन मोहि राजहि प्रानप्रिय सिय जानिबी।
तुलसीस सीलु सनेहु लखि निज किंकरी करि मानिबी॥
तुम्ह परिपूरन काम जान सिरोमनि भावप्रिय।
जन गुन गाहक राम दोष दलन करुनायतन
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
अस कहि रही चरन गहि रानी। प्रेम पंक जनु गिरा समानी॥
सुनि सनेहसानी बर बानी। बहुबिधि राम सासु सनमानी
राम बिदा मागत कर जोरी। कीन्ह प्रनामु बहोरि बहोरी॥
पाइ असीस बहुरि सिरु नाई। भाइन्ह सहित चले रघुराई
मंजु मधुर मूरति उर आनी। भई सनेह सिथिल सब रानी॥
पुनि धीरजु धरि कुंअर हँकारी। बार बार भेटहिं महतारीं
पहुँचावहिं फिरि मिलहिं बहोरी। बढ़ी परस्पर प्रीति न थोरी॥
पुनि पुनि मिलत सखिन्ह बिलगाई। बाल बच्छ जिमि धेनु लवाई
प्रेमबिबस नर नारि सब सखिन्ह सहित रनिवासु।
मानहु कीन्ह बिदेहपुर करुना बिरह निवास
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
सुक सारिका जानकी ज्याए। कनक पिंजरन्हि राखि पढ़ाए॥
ब्याकुल कहहिं कहाँ बैदेही। सुनि धीरजु परिहरइ न केही
भए बिकल खग मृग एहि भाँती। मनुज दसा कैसें कहि जाती॥
बंधु समेत जनकु तब आए। प्रेम उमगि लोचन जल छाए
सीय बिलोकि धीरता भागी। रहे कहावत परम बिरागी॥
लीन्हि राय उर लाइ जानकी। मिटी महामरजाद ग्यान की
समुझावत सब सचिव सयाने। कीन्ह बिचारु न अवसर जाने॥
बारहिं बार सुता उर लाई। सजि सुंदर पालकीं मगाई
प्रेमबिबस परिवारु सबु जानि सुलगन नरेस।
कुँअरि चढ़ाई पालकिन्ह सुमिरे सिद्धि गनेस
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
बहुबिधि भूप सुता समुझाई। नारिधरमु कुलरीति सिखाई॥
दासीं दास दिए बहुतेरे। सुचि सेवक जे प्रिय सिय केरे
सीय चलत ब्याकुल पुरबासी। होहिं सगुन सुभ मंगल रासी॥
भूसुर सचिव समेत समाजा। संग चले पहुँचावन राजा
समय बिलोकि बाजने बाजे। रथ गज बाजि बरातिन्ह साजे॥
दसरथ बिप्र बोलि सब लीन्हे। दान मान परिपूरन कीन्हे
चरन सरोज धूरि धरि सीसा। मुदित महीपति पाइ असीसा॥
सुमिरि गजाननु कीन्ह पयाना। मंगलमूल सगुन भए नाना
सुर प्रसून बरषहि हरषि करहिं अपछरा गान।
चले अवधपति अवधपुर मुदित बजाइ निसान
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
नृप करि बिनय महाजन फेरे। सादर सकल मागने टेरे॥
भूषन बसन बाजि गज दीन्हे। प्रेम पोषि ठाढ़े सब कीन्हे
बार बार बिरिदावलि भाषी। फिरे सकल रामहि उर राखी॥
बहुरि बहुरि कोसलपति कहहीं। जनकु प्रेमबस फिरै न चहहीं
पुनि कह भूपति बचन सुहाए। फिरिअ महीस दूरि बड़ि आए॥
राउ बहोरि उतरि भए ठाढ़े। प्रेम प्रबाह बिलोचन बाढ़े
तब बिदेह बोले कर जोरी। बचन सनेह सुधा जनु बोरी॥
करौ कवन बिधि बिनय बनाई। महाराज मोहि दीन्हि बड़ाई॥
कोसलपति समधी सजन सनमाने सब भांति।
मिलनि परसपर बिनय अति प्रीति न हृदय समाति
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
मुनि मंडलिहि जनक सिरु नावा। आसिरबादु सबहि सन पावा॥
सादर पुनि भेंटे जामाता। रूप सील गुन निधि सब भ्राता
जोरि पंकरुह पानि सुहाए। बोले बचन प्रेम जनु जाए॥
राम करौ केहि भाँति प्रसंसा। मुनि महेस मन मानस हंसा
करहिं जोग जोगी जेहि लागी। कोहु मोहु ममता मदु त्यागी॥
ब्यापकु ब्रह्मु अलखु अबिनासी। चिदानंदु निरगुन गुनरासी
मन समेत जेहि जान न बानी। तरकि न सकहिं सकल अनुमानी॥
महिमा निगमु नेति कहि कहई। जो तिहुँ काल एकरस रहई
नयन बिषय मो कहु भयउ सो समस्त सुख मूल।
सबइ लाभु जग जीव कहँ भए ईस अनुकुल
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
सबहि भाँति मोहि दीन्हि बड़ाई। निज जन जानि लीन्ह अपनाई॥
होहिं सहस दस सारद सेषा। करहिं कलप कोटिक भरि लेखा
मोर भाग्य राउर गुन गाथा। कहि न सिराहिं सुनहु रघुनाथा॥
मै कछु कहउ एक बल मोरे। तुम्ह रीझहु सनेह सुठि थोरे
बार बार मागउ कर जोरे। मनु परिहरै चरन जनि भोरे॥
सुनि बर बचन प्रेम जनु पोषे। पूरनकाम रामु परितोषे
करि बर बिनय ससुर सनमाने। पितु कौसिक बसिष्ठ सम जाने॥
बिनती बहुरि भरत सन कीन्ही। मिलि सप्रेमु पुनि आसिष दीन्ही
मिले लखन रिपुसूदनहि दीन्हि असीस महीस।
भए परस्पर प्रेमबस फिरि फिरि नावहिं सीस
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
बार बार करि बिनय बड़ाई। रघुपति चले संग सब भाई॥
जनक गहे कौसिक पद जाई। चरन रेनु सिर नयनन्ह लाई
सुनु मुनीस बर दरसन तोरे। अगमु न कछु प्रतीति मन मोरे
जो सुखु सुजसु लोकपति चहही। करत मनोरथ सकुचत अहही
सो सुखु सुजसु सुलभ मोहि स्वामी। सब सिधि तव दरसन अनुगामी
कीन्हि बिनय पुनि पुनि सिरु नाई। फिरे महीसु आसिषा पाई
चली बरात निसान बजाई। मुदित छोट बड़ सब समुदाई
रामहि निरखि ग्राम नर नारी। पाइ नयन फलु होहिं सुखारी
बीच बीच बर बास करि मग लोगन्ह सुख देत।
अवध समीप पुनीत दिन पहुँची आइ जनेत
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
हने निसान पनव बर बाजे। भेरि संख धुनि हय गय गाजे॥
झाँझि बिरव डिंडमीं सुहाई। सरस राग बाजहिं सहनाई
पुर जन आवत अकनि बराता। मुदित सकल पुलकावलि गाता॥
निज निज सुंदर सदन सँवारे। हाट बाट चौहट पुर द्वारे
गली सकल अरगजा सिंचाई। जहँ तहँ चौके चारु पुराई॥
बना बजारु न जाइ बखाना। तोरन केतु पताक बिताना
सफल पूगफल कदलि रसाला। रोपे बकुल कदंब तमाला॥
लगे सुभग तरु परसत धरनी। मनिमय आलबाल कल करनी
बिबिध भांति मंगल कलस गृह गृह रचे संवारि।
सुर ब्रह्मादि सिहाहि सब रघुबर पुरी निहारि
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
भूप भवन तेहि अवसर सोहा। रचना देखि मदन मनु मोहा॥
मंगल सगुन मनोहरताई। रिधि सिधि सुख संपदा सुहाई
जनु उछाह सब सहज सुहाए। तनु धरि धरि दसरथ दसरथ गृह छाए॥
देखन हेतु राम बैदेही। कहहु लालसा होहि न केही
जुथ जूथ मिलि चलीं सुआसिनि। निज छबि निदरहि मदन बिलासनि॥
सकल सुमंगल सजे आरती। गावहिं जनु बहु बेष भारती
भूपति भवन कोलाहल होई। जाइ न बरनि समउ सुख सोई॥
कौसल्यादि राम महतारी। प्रेम बिबस तन दसा बिसारी
दिए दान बिप्रन्ह बिपुल पूजि गनेस पुरारी।
प्रमुदित परम दरिद्र जनु पाइ पदारथ चारि
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
मोद प्रमोद बिबस सब माता। चलहिं न चरन सिथिल भए गाता॥
राम दरस हित अति अनुरागीं। परिछनि साजु सजन सब लागीं
बिबिध बिधान बाजने बाजे। मंगल मुदित सुमित्रा साजे॥
हरद दूब दधि पल्लव फूला। पान पूगफल मंगल मूला
अच्छत अंकुर लोचन लाजा। मंजुल मंजरि तुलसि बिराजा॥
छुहे पुरट घट सहज सुहाए। मदन सकुन जनु नीड़ बनाए
सगुन सुंगध न जाहिं बखानी। मंगल सकल सजहिं सब रानी॥
रचीं आरतीं बहुत बिधाना। मुदित करहिं कल मंगल गाना
कनक थार भरि मंगलन्हि कमल करन्हि लिए मात।
चली मुदित परिछनि करन पुलक पल्लवित गात
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
धूप धूम नभु मेचक भयऊ। सावन घन घमंडु जनु ठयऊ॥
सुरतरु सुमन माल सुर बरषहिं। मनह बलाक अवलि मनु करषहिं
मंजुल मनिमय बंदनिवारे। मनहु पाकरिपु चाप संवारे॥
प्रगटहिं दुरहिं अटन्ह पर भामिनि। चारु चपल जनु दमकहिं दामिनि
दुंदुभि धुनि घन गरजनि घोरा। जाचक चातक दादुर मोरा॥
सुर सुगन्ध सुचि बरषहिं बारी। सुखी सकल ससि पुर नर नारी
समउ जानी गुर आयसु दीन्हा। पुर प्रबेसु रघुकुलमनि कीन्हा॥
सुमिरि संभु गिरजा गनराजा। मुदित महीपति सहित समाजा
होहि सगुन बरषहि सुमन सुर दुंदुभी बजाइ।
बिबुध बधू नाचहि मुदित मंजुल मंगल गाइ
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
मागध सूत बंदि नट नागर। गावहिं जसु तिहु लोक उजागर॥
जय धुनि बिमल बेद बर बानी। दस दिसि सुनिअ सुमंगल सानी
बिपुल बाजने बाजन लागे। नभ सुर नगर लोग अनुरागे॥
बने बराती बरनि न जाहीं। महा मुदित मन सुख न समाहीं
पुरबासिन्ह तब राय जोहारे। देखत रामहि भए सुखारे॥
करहिं निछावरि मनिगन चीरा। बारि बिलोचन पुलक सरीरा
आरति करहिं मुदित पुर नारी। हरषहिं निरखि कुँअर बर चारी॥
सिबिका सुभग ओहार उघारी। देखि दुलहिनिन्ह होहिं सुखारी
एहि बिधि सबही देत सुखु आए राजदुआर।
मुदित मातु परुछनि करहि बधुन्ह समेत कुमार
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
करहि आरती बारहिं बारा। प्रेम प्रमोद कहै को पारा॥
भूषन मनि पट नाना जाती॥करही निछावरि अगनित भाँती
बधुन्ह समेत देखि सुत चारी। परमानंद मगन महतारी॥
पुनि पुनि सीय राम छबि देखी॥मुदित सफल जग जीवन लेखी
सखी सीय मुख पुनि पुनि चाही। गान करहिं निज सुकृत सराही॥
बरषहि सुमन छनहि छन देवा। नाचहि गावहि लावहि सेवा
देखि मनोहर चारिउ जोरीं। सारद उपमा सकल ढंढोरी॥
देत न बनहि निपट लघु लागी। एकटक रहीं रूप अनुरागी
निगम नीति कुल रीति करि अरघ पांवड़े देत।
बधुन्ह सहित सुत परिछि सब चली लवाइ निकेत
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
चारि सिंघासन सहज सुहाए। जनु मनोज निज हाथ बनाए॥
तिन्ह पर कुंअर कुंअर बैठारे। सादर पाय पुनित पखारे
धूप दीप नैबेद बेद बिधि। पूजे बर दुलहिनि मंगलनिधि॥
बारहिं बार आरती करहीं। ब्यजन चारु चामर सिर ढरहीं
बस्तु अनेक निछावर होही। भरी प्रमोद मातु सब सोही ॥
पावा परम तत्व जनु जोगी। अमृत लहेउ जनु संतत रोगी
जनम रंक जनु पारस पावा। अंधहि लोचन लाभु सुहावा॥
मूक बदन जनु सारद छाई। मानहु समर सूर जय पाई
एहि सुख ते सत कोटि गुन पावहिं मातु अनंदु॥
भाइन्ह सहित बिआहि घर आए रघुकुलचंदु
लोक रीत जननी करहिं बर दुलहिनि सकुचाहिं।
मोदु बिनोदु बिलोकि बड़ रामु मनहिं मुसकाहिं
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
देव पितर पूजे बिधि नीकी। पूजी सकल बासना जी की॥
सबहि बंदि मागहिं बरदाना। भाइन्ह सहित राम कल्याना
अंतरहित सुर आसिष देही। मुदित मातु अंचल भरि लेही॥
भूपति बोलि बराती लीन्हे। जान बसन मनि भूषन दीन्हे
आयसु पाइ राखि उर रामहि। मुदित गए सब निज निज धामहि॥
पुर नर नारि सकल पहिराए। घर घर बाजन लगे बधाए
जाचक जन जाचहि जोइ जोई। प्रमुदित राउ देहिं सोइ सोई॥
सेवक सकल बजनिआ नाना। पूरन किए दान सनमाना
देहि असीस जोहारि सब गावहि गुन गन गाथ।
तब गुर भूसुर सहित गृह गवन कीन्ह नरनाथ
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
जो बसिष्ठ अनुसासन दीन्ही। लोक बेद बिधि सादर कीन्ही॥
भूसुर भीर देखि सब रानी। सादर उठी भाग्य बड़ जानी
पाय पखारि सकल अन्हवाए। पूजि भली बिधि भूप जेवाए॥
आदर दान प्रेम परिपोषे। देत असीस चले मन तोषे
बहु बिधि कीन्हि गाधिसुत पूजा। नाथ मोहि सम धन्य न दूजा॥
कीन्हि प्रसंसा भूपति भूरी। रानिन्ह सहित लीन्हि पग धूरी
भीतर भवन दीन्ह बर बासु। मन जोगवत रह नृप रनिवासू॥
पूजे गुर पद कमल बहोरी। कीन्हि बिनय उर प्रीति न थोरी
बधुन्ह समेत कुमार सब रानिन्ह सहित महीस।
पुनि पुनि बंदत गुर चरन देत असीस मुनीस
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
बिनय कीन्हि उर अति अनुरागे। सुत संपदा राखि सब आगे॥
नेगु मागि मुनिनायक लीन्हा। आसिरबादु बहुत बिधि दीन्हा
उर धरि रामहि सीय समेता। हरषि कीन्ह गुर गवनु निकेता॥
बिप्रबधू सब भूप बोलाई। चैल चारु भूषन पहिराई
बहुरि बोलाइ सुआसिनि लीन्हीं। रुचि बिचारि पहिरावनि दीन्हीं॥
नेगी नेग जोग सब लेहीं। रुचि अनुरुप भूपमनि देहीं
प्रिय पाहुने पूज्य जे जाने। भूपति भली भाँति सनमाने॥
देव देखि रघुबीर बिबाहू। बरषि प्रसून प्रसंसि उछाहू
चले निसान बजाइ सुर निज निज पुर सुख पाइ।
कहत परसपर राम जसु प्रेम न हृदय समाइ
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
सब बिधि सबहि समदि नरनाहू। रहा हृदय भरि पूरि उछाहू॥
जहँ रनिवासु तहाँ पगु धारे। सहित बहूटिन्ह कुअँर निहारे
लिए गोद करि मोद समेता। को कहि सकइ भयउ सुखु जेता॥
बधू सप्रेम गोद बैठारीं। बार बार हिय हरषि दुलारीं
देखि समाजु मुदित रनिवासू। सब के उर अनंद कियो बासू॥
कहेउ भूप जिमि भयउ बिबाहू। सुनि हरषु होत सब काहू
जनक राज गुन सीलु बड़ाई। प्रीति रीति संपदा सुहाई॥
बहुबिधि भूप भाट जिमि बरनी। रानीं सब प्रमुदित सुनि करनी
सुतन्ह समेत नहाइ नृप बोलि बिप्र गुर ग्याति।
भोजन कीन्ह अनेक बिधि घरी पंच गइ राति
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
मंगलगान करहिं बर भामिनि। भै सुखमूल मनोहर जामिनि॥
अँचइ पान सब काहू पाए। स्त्रग सुगंध भूषित छबि छाए
रामहि देखि रजायसु पाई। निज निज भवन चले सिर नाई॥
प्रेम प्रमोद बिनोदु बढ़ाई। समउ समाजु मनोहरताई
कहि न सकहि सत सारद सेसू। बेद बिरंचि महेस गनेसू॥
सो मै कहौं कवन बिधि बरनी। भूमिनागु सिर धरइ कि धरनी
नृप सब भाँति सबहि सनमानी। कहि मृदु बचन बोलाई रानी॥
बधू लरिकनी पर घर आई। राखेहु नयन पलक की ना
लरिका श्रमित उनीद बस सयन करावहु जाइ।
अस कहि गे बिश्रामगृह राम चरन चितु लाइ
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
भूप बचन सुनि सहज सुहाए। जरित कनक मनि पलंग डसाए॥
सुभग सुरभि पय फेन समाना। कोमल कलित सुपेतीं नाना
उपबरहन बर बरनि न जाही। स्त्रग सुगंध मनिमंदिर माही॥
रतनदीप सुठि चारु चंदोवा। कहत न बनइ जान जेहिं जोवा
सेज रुचिर रचि रामु उठाए। प्रेम समेत पलंग पौढ़ाए॥
अग्या पुनि पुनि भाइन्ह दीन्ही। निज निज सेज सयन तिन्ह कीन्ही
देखि स्याम मृदु मंजुल गाता। कहहिं सप्रेम बचन सब माता॥
मारग जात भयावनि भारी। केहि बिधि तात ताड़का मारी
घोर निसाचर बिकट भट समर गनहिं नहिं काहु॥
मारे सहित सहाय किमि खल मारीच सुबाहु
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
मुनि प्रसाद बलि तात तुम्हारी। ईस अनेक करवरें टारी॥
मख रखवारी करि दुहु भाई। गुरु प्रसाद सब बिद्या पाई॥
मुनितय तरी लगत पग धूरी। कीरति रही भुवन भरि पूरी॥
कमठ पीठि पबि कूट कठोरा। नृप समाज महु सिव धनु तोरा
बिस्व बिजय जसु जानकि पाई। आए भवन ब्याहि सब भाई॥
सकल अमानुष करम तुम्हारे। केवल कौसिक कृपा सुधारे
आजु सुफल जग जनमु हमारा। देखि तात बिधुबदन तुम्हारा॥
जे दिन गए तुम्हहि बिनु देखे। ते बिरंचि जनि पारहि लेखे
राम प्रतोषी मातु सब कहि बिनीत बर बैन।
सुमिरि संभु गुर बिप्र पद किए नीदबस नैन
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
नीदउ बदन सोह सुठि लोना। मनहु सांझ सरसीरुह सोना॥
घर घर करहि जागरन नारीं। देहि परसपर मंगल गारी
पुरी बिराजति राजति रजनी। रानी कहहि बिलोकहु सजनी॥
सुंदर बधुन्ह सासु लै सोई। फनिकन्ह जनु सिरमनि उर गोई
प्रात पुनीत काल प्रभु जागे। अरुनचूड़ बर बोलन लागे॥
बंदि मागधन्हि गुनगन गाए। पुरजन द्वार जोहारन आए
बंदि बिप्र सुर गुर पितु माता। पाइ असीस मुदित सब भ्राता॥
जननिन्ह सादर बदन निहारे। भूपति संग द्वार पगु धारे
कीन्ह सौच सब सहज सुचि सरित पुनीत नहाइ।
प्रातक्रिया करि तात पहिं आए चारिउ भाइ
नवान्हपारायण,तीसरा विश्राम
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
भूप बिलोकि लिए उर लाई। बैठै हरषि रजायसु पाई॥
देखि रामु सब सभा जुड़ानी। लोचन लाभ अवधि अनुमानी
पुनि बसिष्टु मुनि कौसिक आए। सुभग आसनन्हि मुनि बैठाए॥
सुतन्ह समेत पूजि पद लागे। निरखि रामु दोउ गुर अनुरागे
कहहिं बसिष्टु धरम इतिहासा। सुनहिं महीसु सहित रनिवासा॥
मुनि मन अगम गाधिसुत करनी। मुदित बसिष्ट बिपुल बिधि बरनी
बोले बामदेउ सब साँची। कीरति कलित लोक तिहु माची॥
सुनि आनंदु भयउ सब काहू। राम लखन उर अधिक उछाहू
मंगल मोद उछाह नित जाहिं दिवस एहि भाँति।
उमगी अवध अनंद भरि अधिक अधिक अधिकाति
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
सुदिन सोधि कल कंकन छौरे। मंगल मोद बिनोद न थोरे॥
नित नव सुखु सुर देखि सिहाहीं। अवध जन्म जाचहिं बिधि पाहीं
बिस्वामित्रु चलन नित चहहीं। राम सप्रेम बिनय बस रहहीं॥
दिन दिन सयगुन भूपति भाऊ। देखि सराह महामुनिराऊ
मागत बिदा राउ अनुरागे। सुतन्ह समेत ठाढ़ भे आगे॥
नाथ सकल संपदा तुम्हारी। मैं सेवकु समेत सुत नारी
करब सदा लरिकन्ह पर छोहू। दरसन देत रहब मुनि मोहू॥
अस कहि राउ सहित सुत रानी। परेउ चरन मुख आव न बानी
दीन्ह असीस बिप्र बहु भाँती। चले न प्रीति रीति कहि जाती॥
रामु सप्रेम संग सब भाई। आयसु पाइ फिरे पहुँचाई
राम रूपु भूपति भगति ब्याहु उछाहु अनंदु।
जात सराहत मनहिं मन मुदित गाधिकुलचंदु॥
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
बामदेव रघुकुल गुर ग्यानी। बहुरि गाधिसुत कथा बखानी॥
सुनि मुनि सुजसु मनहिं मन राऊ। बरनत आपन पुन्य प्रभाऊ
बहुरे लोग रजायसु भयऊ। सुतन्ह समेत नृपति गृह गयऊ॥
जहँ तहँ राम ब्याहु सबु गावा। सुजसु पुनीत लोक तिहु छावा॥
आए ब्याहि रामु घर जब तें। बसइ अनंद अवध सब तब तें॥
प्रभु बिबाह जस भयउ उछाहू। सकहिं न बरनि गिरा अहिनाहू
कबिकुल जीवनु पावन जानी॥राम सीय जसु मंगल खानी॥
तेहि ते मैं कछु कहा बखानी। करन पुनीत हेतु निज बानी
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
निज गिरा पावनि करन कारन राम जसु तुलसी कहयो।
रघुबीर चरित अपार बारिधि पारु कबि कौने लहयो॥
उपबीत ब्याह उछाह मंगल सुनि जे सादर गावही।
बैदेहि राम प्रसाद ते जन सर्बदा सुखु पावही॥
सिय रघुबीर बिबाह जे सप्रेम गावहिं सुनहि।
तिन्ह कहु सदा उछाहु मंगलायतन राम जसु
मासपारायण, बारहवां विश्राम
बालकाण्ड समाप्त

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...