शनिवार, मई 15, 2010

AYODHYA KAND अयोध्याकाण्ड 13

tulasi das .. Ram Charit Manas..ramayan
story of the lord rama..king of ayodhya
प्रभु पद पदुम पराग दोहाई। सत्य सुकृत सुख सीव सुहाई।।
सो करि कहउ हिए अपने की। रुचि जागत सोवत सपने की।।
सहज सनेह स्वामि सेवकाई। स्वारथ छल फल चारि बिहाई।।
अग्या सम न सुसाहिब सेवा। सो प्रसादु जन पावे देवा।।
अस कहि प्रेम बिबस भए भारी। पुलक सरीर बिलोचन बारी।।
प्रभु पद कमल गहे अकुलाई। समउ सनेहु न सो कहि जाई।।
कृपासिंधु सनमानि सुबानी। बैठाए समीप गहि पानी।।
भरत बिनय सुनि देखि सुभाऊ। सिथिल सनेह सभा रघुराऊ।।
रघुराउ सिथिल सनेह साधु समाज मुनि मिथिला धनी।
मन महुं सराहत भरत भायप भगति की महिमा घनी।।
भरतहि प्रसंसत बिबुध बरषत सुमन मानस मलिन से।
तुलसी बिकल सब लोग सुनि सकुचे निसागम नलिन से।।
देखि दुखारी दीन दुहु समाज नर नारि सब।
मघवा महा मलीन मुए मारि मंगल चहत।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
कपट कुचालि सीव सुरराजू। पर अकाज प्रिय आपन काजू।।
काक समान पाकरिपु रीती। छली मलीन कतहु न प्रतीती।।
प्रथम कुमत करि कपटु सकेला। सो उचाटु सब के सिर मेला।।
सुरमाया सब लोग बिमोहे। राम प्रेम अतिसय न बिछोहे।।
भय उचाट बस मन थिर नाहीं। छन बन रुचि छन सदन सोहाहीं।।
दुबिध मनोगति प्रजा दुखारी। सरित सिंधु संगम जनु बारी।।
दुचित कतहु परितोषु न लहहीं। एक एक सन मरमु न कहहीं।।
लखि हिय हंसि कह कृपानिधानू। सरिस स्वान मघवान जुबानू।।
भरतु जनकु मुनिजन सचिव साधु सचेत बिहाइ।
लागि देवमाया सबहि जथाजोगु जनु पाइ।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
कृपासिंधु लखि लोग दुखारे। निज सनेह सुरपति छल भारे।।
सभा राउ गुर महिसुर मंत्री। भरत भगति सब के मति जंत्री।।
रामहि चितवत चित्र लिखे से। सकुचत बोलत बचन सिखे से।।
भरत प्रीति नति बिनय बड़ाई। सुनत सुखद बरनत कठिनाई।।
जासु बिलोकि भगति लवलेसू। प्रेम मगन मुनिगन मिथिलेसू।।
महिमा तासु कहे किमि तुलसी। भगति सुभाय सुमति हिय हुलसी।।
आपु छोटि महिमा बड़ि जानी। कबिकुल कानि मानि सकुचानी।।
कहि न सकति गुन रुचि अधिकाई। मति गति बाल बचन की नाई।।
भरत बिमल जसु बिमल बिधु सुमति चकोरकुमारि।
उदित बिमल जन हृदय नभ एकटक रही निहारि।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
भरत सुभाउ न सुगम निगमहूं। लघु मति चापलता कबि छमहूं।।
कहत सुनत सति भाउ भरत को। सीय राम पद होइ न रत को।।
सुमिरत भरतहि प्रेमु राम को। जेहि न सुलभ तेहि सरिस बाम को।।
देखि दयाल दसा सबही की। राम सुजान जानि जन जी की।।
धरम धुरीन धीर नय नागर। सत्य सनेह सील सुख सागर।।
देसु काल लखि समउ समाजू। नीति प्रीति पालक रघुराजू।।
बोले बचन बानि सरबसु से। हित परिनाम सुनत ससि रसु से।।
तात भरत तुम्ह धरम धुरीना। लोक बेद बिद प्रेम प्रबीना।।
करम बचन मानस बिमल तुम्ह समान तुम्ह तात।
गुर समाज लघु बंधु गुन कुसमय किमि कहि जात।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
जानहु तात तरनि कुल रीती। सत्यसंध पितु कीरति प्रीती।।
समउ समाजु लाज गुरुजन की। उदासीन हित अनहित मन की।।
तुम्हहि बिदित सबही कर करमू। आपन मोर परम हित धरमू।।
मोहि सब भाँति भरोस तुम्हारा। तदपि कहउ अवसर अनुसारा।।
तात तात बिनु बात हमारी। केवल गुरुकुल कृपा संभारी।।
नतरु प्रजा परिजन परिवारू। हमहि सहित सबु होत खुआरू।।
जौ बिनु अवसर अथव दिनेसू। जग केहि कहहु न होइ कलेसू।।
तस उतपातु तात बिधि कीन्हा। मुनि मिथिलेस राखि सबु लीन्हा।।
राज काज सब लाज पति धरम धरनि धन धाम।
गुर प्रभाउ पालिहि सबहि भल होइहि परिनाम।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
सहित समाज तुम्हार हमारा। घर बन गुर प्रसाद रखवारा।।
मातु पिता गुर स्वामि निदेसू। सकल धरम धरनीधर सेसू।।
सो तुम्ह करहु करावहु मोहू। तात तरनिकुल पालक होहू।।
साधक एक सकल सिधि देनी। कीरति सुगति भूतिमय बेनी।।
सो बिचारि सहि संकटु भारी। करहु प्रजा परिवारु सुखारी।।
बाँटी बिपति सबहिं मोहि भाई। तुम्हहि अवधि भरि बड़ि कठिनाई।।
जानि तुम्हहि मृदु कहउ कठोरा। कुसमय तात न अनुचित मोरा।।
होहिं कुठाय सुबंधु सुहाए। ओड़िअहिं हाथ असनिहु के घाए।।
सेवक कर पद नयन से मुख सो साहिबु होइ।
तुलसी प्रीति कि रीति सुनि सुकबि सराहहि सोइ।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
सभा सकल सुनि रघुबर बानी। प्रेम पयोधि अमिअ जनु सानी।।
सिथिल समाज सनेह समाधी। देखि दसा चुप सारद साधी।।
भरतहि भयउ परम संतोषू। सनमुख स्वामि बिमुख दुख दोषू।।
मुख प्रसन्न मन मिटा बिषादू। भा जनु गूँगेहि गिरा प्रसादू।।
कीन्ह सप्रेम प्रनामु बहोरी। बोले पानि पंकरुह जोरी।।
नाथ भयउ सुखु साथ गए को। लहेउं लाहु जग जनमु भए को।।
अब कृपाल जस आयसु होई। करों सीस धरि सादर सोई।।
सो अवलंब देव मोहि देई। अवधि पारु पावों जेहि सेई।।
देव देव अभिषेक हित गुर अनुसासनु पाइ।
आनेउ सब तीरथ सलिलु तेहि कह काह रजाइ।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
एकु मनोरथु बड़ मन माहीं। सभय सकोच जात कहि नाहीं।।
कहहु तात प्रभु आयसु पाई। बोले बानि सनेह सुहाई।।
चित्रकूट सुचि थल तीरथ बन। खग मृग सर सरि निर्झर गिरिगन।।
प्रभु पद अंकित अवनि बिसेषी। आयसु होइ त आवों देखी।।
अवसि अत्रि आयसु सिर धरहू। तात बिगतभय कानन चरहू।।
मुनि प्रसाद बनु मंगल दाता। पावन परम सुहावन भ्राता।।
रिषिनायकु जहँ आयसु देहीं। राखेहु तीरथ जलु थल तेहीं।।
सुनि प्रभु बचन भरत सुख पावा। मुनि पद कमल मुदित सिरु नावा।।
भरत राम संबादु सुनि सकल सुमंगल मूल।
सुर स्वारथी सराहि कुल बरषत सुरतरु फूल।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
धन्य भरत जय राम गोसाई। कहत देव हरषत बरिआई।
मुनि मिथिलेस सभा सब काहू। भरत बचन सुनि भयउ उछाहू।।
भरत राम गुन ग्राम सनेहू। पुलकि प्रसंसत राउ बिदेहू।।
सेवक स्वामि सुभाउ सुहावन। नेमु पेमु अति पावन पावन।।
मति अनुसार सराहन लागे। सचिव सभासद सब अनुरागे।।
सुनि सुनि राम भरत संबादू। दुहु समाज हिय हरषु बिषादू।।
राम मातु दुखु सुखु सम जानी। कहि गुन राम प्रबोधी रानी।।
एक कहहिं रघुबीर बड़ाई। एक सराहत भरत भलाई।।
अत्रि कहेउ तब भरत सन सैल समीप सुकूप।
राखिअ तीरथ तोय तहँ पावन अमिअ अनूप।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
भरत अत्रि अनुसासन पाई। जल भाजन सब दिए चलाई।।
सानुज आपु अत्रि मुनि साधू। सहित गए जहँ कूप अगाधू।।
पावन पाथ पुन्यथल राखा। प्रमुदित प्रेम अत्रि अस भाषा।।
तात अनादि सिद्ध थल एहू। लोपेउ काल बिदित नहिं केहू।।
तब सेवकन्ह सरस थलु देखा। किन्ह सुजल हित कूप बिसेषा।।
बिधि बस भयउ बिस्व उपकारू। सुगम अगम अति धरम बिचारू।।
भरतकूप अब कहिहहिं लोगा। अति पावन तीरथ जल जोगा।।
प्रेम सनेम निमज्जत प्रानी। होइहहिं बिमल करम मन बानी।।
कहत कूप महिमा सकल गए जहां रघुराउ।
अत्रि सुनायउ रघुबरहि तीरथ पुन्य प्रभाउ।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
कहत धरम इतिहास सप्रीती। भयउ भोरु निसि सो सुख बीती।।
नित्य निबाहि भरत दोउ भाई। राम अत्रि गुर आयसु पाई।।
सहित समाज साज सब सादे। चले राम बन अटन पयादे।।
कोमल चरन चलत बिनु पनही। भइ मृदु भूमि सकुचि मन मनही।।
कुस कंटक कांकरीं कुराई। कटुक कठोर कुबस्तु दुराई।।
महि मंजुल मृदु मारग कीन्हे। बहत समीर त्रिबिध सुख लीन्हे।।
सुमन बरषि सुर घन करि छाही। बिटप फूलि फलि तृन मृदुताही।।
मृग बिलोकि खग बोलि सुबानी। सेवहिं सकल राम प्रिय जानी।।
सुलभ सिद्धि सब प्राकृतहु राम कहत जमुहात।
राम प्रान प्रिय भरत कहुं यह न होइ बड़ि बात।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
एहि बिधि भरतु फिरत बन माहीं। नेमु प्रेमु लखि मुनि सकुचाहीं।।
पुन्य जलाश्रय भूमि बिभागा। खग मृग तरु तृन गिरि बन बागा।।
चारु बिचित्र पबित्र बिसेषी। बूझत भरतु दिब्य सब देखी।।
सुनि मन मुदित कहत रिषिराऊ। हेतु नाम गुन पुन्य प्रभाऊ।।
कतहु निमज्जन कतहु प्रनामा। कतहुं बिलोकत मन अभिरामा।।
कतहु बैठि मुनि आयसु पाई। सुमिरत सीय सहित दोउ भाई।।
देखि सुभाउ सनेहु सुसेवा। देहि असीस मुदित बनदेवा।।
फिरहि गए दिनु पहर अढ़ाई। प्रभु पद कमल बिलोकहिं आई।।
देखे थल तीरथ सकल भरत पांच दिन माझ।
कहत सुनत हरि हर सुजसु गयउ दिवसु भइ सांझ।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
भोर न्हाइ सबु जुरा समाजू। भरत भूमिसुर तेरहुति राजू।।
भल दिन आजु जानि मन माहीं। रामु कृपाल कहत सकुचाहीं।।
गुर नृप भरत सभा अवलोकी। सकुचि राम फिरि अवनि बिलोकी।।
सील सराहि सभा सब सोची। कहु न राम सम स्वामि संकोची।।
भरत सुजान राम रुख देखी। उठि सप्रेम धरि धीर बिसेषी।।
करि दंडवत कहत कर जोरी। राखी नाथ सकल रुचि मोरी।।
मोहि लगि सहेउ सबहिं संतापू। बहुत भाँति दुखु पावा आपू।।
अब गोसांइ मोहि देउ रजाई। सेवों अवध अवधि भरि जाई।।
जेहि उपाय पुनि पाय जनु देखे दीनदयाल।
सो सिख देइअ अवधि लगि कोसलपाल कृपाल।।
राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ
satguru-satykikhoj.blogspot.com
पुरजन परिजन प्रजा गोसाई। सब सुचि सरस सनेह सगाई।।
राउर बदि भल भव दुख दाहू। प्रभु बिनु बादि परम पद लाहू।।
स्वामि सुजानु जानि सब ही की। रुचि लालसा रहनि जन जी की।।
प्रनतपालु पालिहि सब काहू। देउ दुहू दिसि ओर निबाहू।।
अस मोहि सब बिधि भूरि भरोसो। किए बिचारु न सोचु खरो सो।।
आरति मोर नाथ कर छोहू। दुहु मिलि कीन्ह ढीठु हठि मोहू।।
यह बड़ दोषु दूरि करि स्वामी। तजि सकोच सिखइअ अनुगामी।।
भरत बिनय सुनि सबहिं प्रसंसी। खीर नीर बिबरन गति हंसी।।

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...